July 5, 2022

अशोक गहलोत के मंत्री महेश जोशी के बेटे पर रेप का आरोप, नशीला पदार्थ खिलाकर की दरिंदगी

wp-header-logo-167.png

जयपुर। राजस्थान में एक बार फिर कांग्रेस के बड़े नेता के बेटे पर रेप का आरोप लगा है। इस बार गहलोत सरकार में जलदाय मंत्री महेश जोधी के बेटे रोहित जोशी पर आरोप लगा है। पीड़िता ने आरोप लगाया है कि मंत्री के बेटे रोहित जोशी ने नशीला पदार्थ पिलाकर उसके साथ कई बार रेप किया। पीड़िता का आरोप है कि जब वह गर्भवती हुई तो उसका गर्भपात करा दिया गया। पीड़िता ने मारपीट कर दुष्कर्म करने का भी आरोप लगाया है। जयपुर की 23 वर्ष की एक युवती की शिकायत पर पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। पीड़िता का कहना है कि राजस्थान में उसकी जान को खतरा है। इसलिए उसने नॉर्थ दिल्ली के सदर बाजार थाने में मामला दर्ज कराया है।
सोशल मीडिया पर हुई थी दोस्ती
पीड़िता ने नॉर्थ दिल्ली के सदर थाने में मामला दर्ज करवाया है। पीड़िता ने दर्ज शिकायत में कहा है कि रोहित जोशी से फेसबुक पर दोस्ती हुई थी। इसके बाद रोहित 8 जनवरी 2021 को उसे अपने दोस्त के घर सवाई माधोपुर ले गया था। जहां पर रोहित ने नशीला पदार्थ पिलाकर रेप किया। आरोप है कि पीड़िता के बेसुध होने पर उसके न्यूड वीडियो बनाए और फोटो खींच लिए। नोर्थ दिल्ली पुलिस ने पीड़िता की शिकायत पर जीरो नंबर एफआईआर दर्ज कर सवाईमाधोपुर एसपी को भेज दी है।
गर्भवती होने पर हो गया झगड़ा
पीड़िता का आरोप है कि 20 अप्रैल 2021 को रोहित जोशी अपने दोस्त मुस्कान के फार्म हाउस पर ले गया। जहां उसकी मांग में सिंदूर भर दिया और अपनी पत्नी बनाने की बात कही। पीड़िता के मुताबिक रोहित जोशी ने जल्द शादी का रिशेप्शन का आश्वासन दिया। 26 जून 2021 को आरोपी पीड़िता को मनाली ले गया। 11 अगस्त 2021 को पीड़िता गर्भवती हो गई। इसकी जानकारी उसने रोहित को दी तो दोनों के बीच झगड़ा हो गया।
कई बार किया दुष्कर्म
पीड़िता का आरोप है कि 3 से 4 सिंतबर को रोहित ने दिल्ली के होटल सम्राट में भी उसके साथ दुष्कर्म किया। पीड़िता के मुताबिक 17 अप्रैल 2022 को फिर उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस के मुताबिक, उत्तरी जिले के एक थाने में आठ मई को भारतीय दंड संहिता की धारा 376, 328, 312, 366, 377 और 506 के अंतर्गत प्राथमिकी दर्ज की गई।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source