September 30, 2022

Knowledge News: भारत में राष्ट्रपति के पास हैं कितनी Power और क्या है इस पद की जिम्मेदारी?

wp-header-logo-150.png

Knowledge News: भारत में राष्ट्रपति (President) का ओहदा हर किसी से बड़ा होता है। भारत गणराज्य (Republic Of India) का राष्ट्रपति भारतीय राज्य (Indian States) का प्रमुख होता है। वह भारतीय सशस्त्र बलों (Indian Armed Forces) का कमांडर इन चीफ (Commander In Chief) होता है। भारत के राष्ट्रपति का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से राज्य सभा (Rajya Sabha) और लोकसभा (Lok Sabha) दोनों के प्रत्यक्ष रूप से निर्वाचित सदस्यों और भारत के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं (Vidhan Sabha) द्वारा किया जाता है। भारत के राष्ट्रपति को संविधान की रक्षा (Protect The Constitution) करने की जिम्मेदारी और अधिकार दिया गया है। हमारे वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (Ramnath Kovind) हैं, जो कि भारत के 14वें राष्ट्रपति (14th President of India) हैं। इससे पहले इस पद पर प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) थे। राष्ट्रपति का कार्यकाल 5 साल का होता है। इस साल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल पूरा हो रहा है, और जुलाई में इस पद का चुनाव होना है। अपनी इस स्टोरी में हम आपको भारत के राष्ट्रपति की ताकत और उनकी जिम्मेदारियों के बारे में विस्तार से बताएंगे…
कब और कैसे हुई शुरुआत
राष्ट्रपति का कार्यालय 26 जनवरी 1950 को भारत के गणतंत्र बनने पर बनाया गया था, जब इसका संविधान लागू हुआ था। राष्ट्रपति का चुनाव अप्रत्यक्ष रूप से एक निर्वाचक मंडल द्वारा किया जाता है जिसमें भारत की संसद के दोनों सदनों और भारत के प्रत्येक राज्य और क्षेत्रों की विधानसभाएं शामिल होती हैं, जो स्वयं सभी सीधे चुने जाते हैं। भीमराव अम्बेडकर ने कहा था, कि संविधान के ड्राफ्ट के तहत राष्ट्रपति का वही पद है जो अंग्रेजी संविधान के तहत राजा का है। वह राज्य का मुखिया होता है, लेकिन कार्यपालिका का नहीं। वह राष्ट्र का प्रतिनिधित्व करता है लेकिन राष्ट्र पर शासन नहीं करता है। वह राष्ट्र के प्रतीक हैं। प्रशासन में उनका स्थान मुहर पर एक औपचारिक उपकरण का है जिसके द्वारा राष्ट्र के निर्णयों को ज्ञात किया जाता है। हालांकि भारत के संविधान के अनुच्छेद 53 में कहा गया है कि राष्ट्रपति अपनी शक्तियों का सीधे या अधीनस्थ प्राधिकारी द्वारा प्रयोग कर सकता है, कुछ अपवादों के साथ, राष्ट्रपति में निहित सभी कार्यकारी शक्तियां, व्यवहार में, प्रधान मंत्री द्वारा मंत्रिपरिषद की मदद से प्रयोग की जाती हैं। राष्ट्रपति संविधान द्वारा प्रधान मंत्री और कैबिनेट की सलाह पर कार्य करने के लिए बाध्य है, जब तक कि सलाह संविधान का उल्लंघन नहीं करती है। राष्ट्रपति को 5 लाख रुपए की मासिक आय मिलती है। इसके साथ ही उन्हें और उनके परिवार को तमाम सुख सुविधाओं से लैस राष्ट्रपति भवन रहने के लिए दिया जाता है। राष्ट्रपति की सुरक्षा पीबीजी करती है। राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड की प्राथमिक भूमिका भारत के राष्ट्रपति की रक्षा करना और उनकी रक्षा करना है, यही कारण है कि रेजिमेंट राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली, भारत में स्थित है। राष्ट्रपति के महल में समारोहों के लिए घोड़ों और युद्ध में उपयोग के लिए बीटीआर -80 वाहन होते हैं।
भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्राप्त विधायी शक्तियां (Legislative Powers Of Indian President)
राष्ट्रपति के पास लोकसभा को भंग करने की शक्ति है। एक विधेयक जो संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित किया गया है, वह राष्ट्रपति के प्राप्त होने पर ही कानून बन सकता है। भारत के राष्ट्रपति के पास राज्य सभा के लिए 12 सदस्यों को नॉमिनेट करने की शक्ति होती है जिन्होंने विज्ञान, कला, साहित्य और समाज सेवा के क्षेत्र में असाधारण उपलब्धियां हासिल की हैं राष्ट्रपति के पास किसी विधेयक को संसद में वापस भेजने की शक्ति होती है, जब तक कि वह धन विधेयक या संवैधानिक संशोधन विधेयक न हो।
भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्राप्त कार्यकारी शक्ति (Executive Powers Of Indian President)
देश की कार्यकारी शक्तियां भारत के राष्ट्रपति के पास निहित हैं। भारत की संसद यदि उचित समझे तो राष्ट्रपति को अतिरिक्त शक्तियां प्रदान कर सकती है और राष्ट्रपति इन शक्तियों को राज्य के राज्यपालों को दे सकता है।
नियुक्ति की शक्ति और कर्तव्य (Appointing Powers and Duties)
राष्ट्रपति के पास भारत के प्रधान मंत्री को नियुक्त करने की शक्ति और जिम्मेदारी है। भारत के राष्ट्रपति मुख्य न्यायाधीश यानी चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की नियुक्ति करते हैं। राष्ट्रपति राज्यों के लिए नियुक्ति प्राधिकारी है और उसके पास राज्यपाल को बर्खास्त करने की शक्ति भी है जिसने अपने कृत्यों में संविधान का उल्लंघन किया है। इनके अलावा राष्ट्रपति के पास कई पदों पर नियुक्ति करने की शक्ति है, जिसमें आईएएस, आईपीएस, आईएफएस, अटॉर्नी जनरल, आदि जैसे अन्य देशों में राजदूत शामिल हैं।
राष्ट्रपति की सैन्य शक्तियां (Military Powers of Indian President)
भारत का राष्ट्रपति सभी भारतीय सशस्त्र बलों का कमांडर इन चीफ होता है। राष्ट्रपति के पास प्रधान मंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रिपरिषद की सलाह पर किसी भी देश के साथ युद्ध की घोषणा करने या शांति समाप्त करने की शक्ति है। किसी भी विदेशी देश के साथ सभी संधियों पर भारत के राष्ट्रपति के नाम पर हस्ताक्षर किए जाते हैं।
क्षमा करने की शक्ति (Power Of Pardon)
भारत गणराज्य के राष्ट्रपति के पास क्षमादान देने की शक्ति है यदि अपराध की सजा सैन्य अदालत द्वारा दी गई संघीय कानून के खिलाफ अपराध है या सजा मौत की है।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author