October 3, 2022

Health Tips: हेल्दी रहने के लिए रोजाना करें योगाभ्यास, इन पांच आसन के साथ आज ही करें शुरुआत

wp-header-logo-158.png

Health Tips: योगासन (Yogasana) फिट और हेल्दी (Fit and Healthy) रहने के लिए सबसे बेहतरीन तरीका है। अगर आप बीमारियों से दूर फिट और हेल्दी रहना चाहते हैं, तो इसे अपनी रोज की आदत में शामिल कर लीजिए। एक स्वस्थ जीवन (Healthy Life) जीने के लिए हमारे शरीर का एक्टिव रहना और शारीरिक गतिविधियों में लिप्त होना बहुत जरूरी है। तो बिना किसी देर किए रोजाना योगासन करने की आदत डाल लीजिए। अब आप सोच रहें होगें कि आपको तो योगा आता ही नहीं तो आप इसे करेंगे कैसे या फिर इसे सीखने के लिए आपको कोई ट्रेनिंग सेंटर जॉइन कर लेना चाहिए। तो इसकी चिंता छोड़ दीजिए कुछ योगासन बहुत ही आसान होते हैं और इन्हें करने से आपको ढेरों फायदे मिलते हैं। अपनी इस स्टोरी में हम आपको ऐसे 5 आसन (Easy Yoga for Beginners) के बारे में बताएंगे, जिन्हें आप आसानी से सीख सकते हैं।
ताड़ासन (Tadasana)
ताड़ासन सबसे बुनियादी योग मुद्राओं में से एक है। यह अपेक्षाकृत सरल है और योग के साथ आपकी शुरुआत के लिए काफी बेहतर है। योग प्रकृति से गहराई से जुड़ा हुआ है और इसलिए हर आसन का प्रकृति से गहरा संबंध है। ताड़ा का अर्थ है पहाड़ और यह आसन आपको उसी महिमा और शिष्टता के साथ पहाड़ की तरह खड़ा होना सिखाता है। इस आसन को करने के लिए आपको सीधे खड़े होने की जरूरत है, पैर एक दूसरे के बगल में। एड़ियों के बीच एक छोटा सा गैप छोड़ दें। आपने हाथों को कमर के पास रखें। फिर धीरे-धीरे अपने पैर की उंगलियों को ऊपर उठाएं और अपने टखने को भी फैलाएं। अपने शरीर को मुद्रा में संतुलित करें। अपने धड़ को खींचते हुए धीरे-धीरे सांस लें। जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, अपने कंधे के ब्लेड को गर्दन से दूर ले जाएं। आपको बिल्कुल सीधे खड़े होने की जरूरत है और आपके कंधे और आपके टखने एक सीधी रेखा में होने चाहिए। फिर धीरे से अपने हाथों को अपने सिर के ऊपर उठाएं और उन्हें एक साथ फैलाएं। शुरुआत में ऐसा 5-6 बार करना सही होगा और धीरे-धीरे आप चाहें तो इस समय को बढ़ा सकते हैं।

वृक्षासन (Vrikshasana)
योग की शुरुआत करने के लिए वृक्षासन भी एक अच्छा ऑप्शन है। वृक्ष का अर्थ है पेड़ और यह मुद्रा आपको एक पेड़ की तरह खड़ा करती है और ग्राउंडिंग की भावना प्रदान करती है। यह आपके शरीर में संतुलन बनाने और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए एक उत्कृष्ट मुद्रा है। अगर आपकी पीठ में दर्द या पैरों में दर्द है तो इस आसन को करें। इसे करने के लिए एक सीधी स्थिति में खड़े हो जाएं। फिर धीरे-धीरे अपने बाएं पैर को ऊपर उठाएं और बाएं पैर को अपनी दाहिनी जांघ पर रखें। अपने दाहिने पैर को जमीन पर मजबूती से टिकाएं और अपना संतुलन बनाए रखें। धीरे-धीरे सांस लें और अपनी बाहों को अपने सिर के ऊपर उठाएं और अपनी हथेलियों को आपस में छुएं। यह आपके शरीर में मांसपेशियों को फैलाएगा, आपको संतुलन में मदद करेगा और आसन पूरा करने के तुरंत बाद आपको एक बहुत ही फिट महसूस होगा। इसकी शुरुआत आप 15 सेकेंड के साथ करें और धीरे-धीरे इसे बढ़ाएं।

उत्कटासन (Utkatasana)
यदि आप स्वस्थ जीवन के लिए योग का सहारा लेना चाहते हैं, तो आपको सही आसन करने की आवश्यकता है। शुरुआत के लिए उत्कटासन एक बहुत अच्छा विकल्प है। कुर्सी मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, उत्कटासन आपकी इच्छाशक्ति को बढ़ाने और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए जाना जाता है। यह आपके हाथों और पैरों की मांसपेशियों के लिए विशेष रूप से सहायक है। इसके लिए आपको कोहनियों को झुकाए बिना सीधे खड़े होकर अपनी बाहों को फैलाना है। फिर धीरे-धीरे अपने घुटनों को मोड़ें और कुर्सी पर बैठने की मुद्रा का अनुकरण करते हुए अपनी कमर को नीचे की ओर झुकाएं। इसे बहुत धीरे-धीरे सांस लेते हुए करें। आपके हाथ धीरे-धीरे फर्श के समानांतर होने चाहिए और आपकी पीठ पूरी तरह से सीधी स्थिति में होनी चाहिए। आसन के दौरान हर समय घुटनों को पंजों के पीछे रहना चाहिए।

भुजंगासन (Bhujangasana)
भुजंगासन कोबरा मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, भुजंगासन एक बहुत ही प्रभावी योग मुद्रा है। परंपरागत रूप से भुजंगासन का अभ्यास रोगों को नष्ट करने के लिए किया जाता था। योगियों का मानना था कि आसन से शरीर की गर्मी बढ़ती है और रोग पैदा करने वाले जीवों का अंत होता है। इसलिए यह उन आसनों में से एक है जो योग के उच्चतम स्वास्थ्य लाभ प्रदान करते हैं। भुजंगासन को करने के लिए आपको फर्श पर, पेट के बल लेटना होता है। अपने हाथों पर दबाव के साथ, अपने धड़ को ऊपर उठाएं और अपने सिर को पीछे धकेलें। कंधों को कानों से दूर खींचो। सांस अंदर लेते समय ऐसा करें। फिर सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे जमीन पर वापस आ जाएं और पेट के बल लेट जाएं।

सुखासन (Sukhasna)
सुखासन आराम की मुद्रा है और ध्यान के लिए आदर्श है। चूंकि योग मन को ठीक करने और चिंता को कम करने पर बहुत ध्यान केंद्रित करता है, सुखासन एक महत्वपूर्ण मुद्रा है जिसका अभ्यास सभी को करना चाहिए। ऐसा करने के लिए, आपको फर्श पर पालती मार कर बैठना होगा। एक सीधी स्थिति में बैठें और अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें। अपने हाथों को अपने घुटनों पर रखें और शांति से सांस लें। यह आपके दिमाग को ठीक करेगा और आपके शरीर में परिसंचरण में भी सुधार करेगा। इस मुद्रा में आप 5 मिनट बैठने के साथ शुरुआत कर खुद को तनाव और चिंता से दूर रख सकते हैं।

Note: यहां दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान पर आधारित है। इन्हें फॉलो करने से पहले एक बार एक्सपर्ट की सलाह अवश्य ले लें।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author