December 8, 2022

Knowledge News : जानिए क्रिकेटर्स क्यों करते हैं चेहरे पर सफेद रंग की क्रीम का इस्तेमाल, वजह कर देगी हैरान

wp-header-logo-93.png

अक्सर आपने क्रिकेट मैच के दौरान देखा होगा कि बहुत से खिलाड़ी अपने मुंह पर सफेद क्रीम लगाए हुए नजर आते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि चेहरे पर लगाई जाने वाली ये कौन सी क्रीम होती है और इस क्रीम के लगाए जाने का कारण क्या है। ये तो हम सब जानते हैं कि क्रिकेटर्स को खेल के दौरान अपना बेहद ध्यान रखने की जरूरत होती है। खेल को खेलते समय क्रिकेटर्स की ऐसी बहुत सी आदतें होती हैं जिसके वजह से उनका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। लेकिन शायद ही कोई ऐसा होगा जो ये जानता हो कि खिलाड़ी इस क्रीम का इस्तेमाल क्यों करते हैं। अगर नहीं जानते तो कोई नहीं आज हम आपको बताते हैं कि खिलाड़ी इस क्रीम का इस्तेमाल बिना वजह नहीं करते।
जिस सफेद क्रीम का इस्तेमाल क्रिकेटर्स अक्सर किया करते हैं वह जिंक ऑक्साइड है। जिंक ऑक्साइड एक फिजिकल सनस्क्रीन है। इस क्रीम को अक्सर रिफ्लेक्टर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और इसे त्वचा के ऊपर लगाया जाता है। इस क्रीम से त्वचा के ऊपर एक लेयर बनाई जाती है जो क्रिकेटर्स को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाने में मदद करती है। अब आप सोच रहे होंगे कि इसमें ऐसा क्या खास है हम भी रोजाना सनस्क्रीन लगाते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि जो सनस्क्रीन हम रोजाना इस्तेमाल करते हैं वह ‘केमिकल सनस्क्रीन’ और ‘एब्सॉर्बर’ होते हैं। क्रिकेटर्स जिंक ऑक्साइड का इस्तेमाल इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें लगातार 6 से 7 घंटों तक धूप में रहना होता है। ऐसे में यह उनकी स्किन के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है। इसलिए जिंक ऑक्साइड का इस्तेमाल उनकी स्किन को डैमेज होने से बचाता है। यहां तक जिंक ऑक्साइड स्किन को जलन और सूजन से भी बचाने में मदद करती है।
कहां और कैसे लगाएं जिंक ऑक्साइड सन्स्क्रीन
ज्यादातर क्रिकेटर्स ही हैं जो जिंक ऑक्साइड का इस्तेमाल करते हैं। वो इसे सिर, चेहरे, गर्दन के पीछे या फिर अपने हाथों पर लगाते हैं क्योंकि यह सबसे ज्यादा एक्सपोज्ड वाला एरिया होता है जहां सूरज की किरणें प्रभावित कर सकती है। उनकी पहली प्राथमिकता इस क्रीम को सिर और चेहरा पर लगाना होती है। इस क्रीम का इस्तेमाल करने के लिए इसे अपनी अंगुलियों पर लेकर अच्छे से एक्सपोज्ड एरिया में लगाएं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author