August 8, 2022

गहलोत-शेखावात के सियासी ‘गढ़’ में वसुंधरा राजे का बेबाक अंदाज, जानिए क्या क्या कहा?

wp-header-logo-109.png

जयपुर। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे इन दिनों मिशन 2023 मोड पर ‘ग्राउंड वर्क’ करती नज़र आ रही हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के सियासी गढ़ जोधपुर में एंट्री के साथ ही राजे अपने बयानों से कई सन्देश देती दिखाई दीं। अपने जोधपुर प्रवास के दौरान उन्होंने गहलोत सरकार पर तो निशाना साधा ही, लेकिन साथ ही अपनी ही पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को एकजुट रहने की नसीहतें दे डाली। मीडिया कर्मियों से जोधपुर के हालातों के बारे में भी जानकारी जुटाई। इसके साथ कई गंभीर विषयों पर भी खुलकर चर्चा की।
आमजन सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा
पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा ने मीडिया से मुलाकात के बाद कई विषयों पर गंभीर चर्चा और बेबाक बोल रखते हुए स्पष्ट शब्दों में कहा कि पुलिसिंग को और मजबूत करने की जरूरत है, जिससे कि आम नागरिक सुरक्षित महसूस कर सकें। आउटडेटेड सिस्टम से मॉडर्न प्रॉब्लम संभव नहीं है। मौजूदा हालातों के मद्देनजर प्रदेश में इंटेलिजेंस फैलियर भी है एक कारण, जिससे कि आमजन सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा।
जोधपुर के लोग शहर में खस्ताहाल ड्रेनेज सिस्टम से काफी परेशान हैं, जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब मुख्यमंत्री जी के गृह जिले में ही ऐसे हालात हैं तो बाकी प्रदेश की क्या स्थिति होगी। इस दौरान मैंने जिला कलेक्टर से बात कर ड्रेनेज सिस्टम जल्द सुधारने के निर्देश दिए।#rajasthan pic.twitter.com/hnVZb3HbED
— Vasundhara Raje (@VasundharaBJP) July 6, 2022

योगी सरकार की जमकर की तारीफ
राजे ने कांग्रेस सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि पुलिस और इंटेलिजेंस उपयोग नागरिकों की सुरक्षा के लिए होना चाहिए, ना की राजनेताओं की निगरानी के लिए। वसुंधरा राजे ने सुरक्षा के मामले में उत्तरप्रदेश के योगी सरकार की भी तारीफ की।
कोटा में काम की देरी पर उठाए सवाल
सूबे की पूर्व सीएम ने कहा कि हमारी सरकार ने कोटा में काम शुरू करवा दिया गया था। अब मामले में हो रही देरी समझ से परे है। अलवर में पेयजल की भयंकर समस्या है। हमारी सरकार ने 13 जिलों को ध्यान में रखते हुए डीपीआर बनाकर 1000 करोड़ रुपये का कार्य शुरू भी करवा दिया था लेकिन अब क्यों इस मामले में राजनीति हो रही है।
प्रदेश में पानी की कमी को देखते हुए हमारी सरकार ने 13 जिलों के लिए #ERCP का काम शुरू किया था, लेकिन अफसोस इसको लेकर कांग्रेस सरकार राजनीति कर रही है। उन्हें इस काम को आगे बढ़ाना चाहिए था, सहयोग की अपेक्षा बाद में करते। हर काम को केन्द्र पर डालना ठीक नहीं है।#rajasthan pic.twitter.com/IRpqlRLPcy
— Vasundhara Raje (@VasundharaBJP) July 6, 2022

राजनीति नहीं, गुड़ गवर्नेंस पर ध्यान
राजे ने कहा कि लोग मुझे कहते थे राजनीति करो, गुड गवर्नेंस की क्या आवश्यकता है? लेकिन मैंने अपने समय में गुड गवर्नेंस पर ध्यान दिया। भामाशाह, नारी सशक्तिकरण, गौरव पथ, टूरिज्म, अन्नपूर्णा रसोई, अन्नपूर्णा भंडार, जल स्वावलंबन अभियान जैसे कई काम हुए। यह सोचने की जरूरत है कि हमारा राजस्थान देश में पहले पायदान पर कैसे आए।
किन्नरों से मिला ‘शगुन का सिक्का’
जोधपुर प्रवास के दौरान किन्नर संघ के सदस्यों ने भी वसुंधरा राजे से मुलाक़ात की। इन सदस्यों ने राजे को शगुन का सिक्का देकर उनका जोधपुर की धरती पर स्वागत किया। इधर, राजे इस शगुन के सिक्के को पाकर बेहद खुश नज़र आईं। उन्होंने इसके लिए किन्नर संघ के सदस्यों का धन्यवाद दिया और सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें साझा भी की।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author