August 14, 2022

राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस की बाड़ाबंदी में चल रहा जादू, मान ही गए रूठे विधायक

wp-header-logo-71.png

जयपुर। राज्यसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने उदयपुर में विधायकों की बाड़ाबंदी कर रखी है। तमाम झंझावातों के बावजूद कांग्रेस की नैया पार होती नजर आ रही है। विधायकों को साधने की अपनी रणनीति में कांग्रेस पूरी तरह कामयाब होती नजर आ रही है। जादूगर नाराज विधायकों को मनाने में सफल हो गए है। अब तकरीबन हर विधायक का रुख साफ हो चुका है। कांग्रेस के साथ ही समर्थन कर रहे ज्यादातर दूसरे विधायक भी उदयपुर स्थित फाइव स्टार होटल में पहुंच चुके हैं। बसपा से कांग्रेस में शामिल हुए 6 में से 4 विधायक अपनी नाराजगी जाहिर करने के बाद सीएम के साथ चार्टर से उदयपुर जा पहुंच गए हैं।
12 निर्दलीय विधायक बाड़ेबंदी में पहुंचे
वहीं कांग्रेस विधायक खिलाड़ीलाल बैरवा और गिर्राज मलिंगा भी नाराजगी जताने के बाद अब उदयपुर में हैं। वहीं, कांग्रेस विधायक राजेन्द्र विधूड़ी और दिव्या मदेरणा भी कल उदयपुर पहुंच चुके हैं। इतना ही नहीं 13 में से 12 निर्दलीय विधायक भी उदयपुर में हो रही बाड़ेबंदी में मौजूद हैं।
होटल में कम है विधायकों की संख्या
कांग्रेस द्वारा करीब 112 विधायकों के अब तक बाड़ेबंदी में पहुंचने का दावा किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक अब भी होटल में 105 विधायक ही बताए जा रहे है। निर्दलीय विधायक बलजीत यादव अभी तक बाड़ेबंदी में नहीं पहुंचे हैं। बीटीपी और माकपा के विधायक भी अभी तक उदयपुर नहीं पहुंचे हैं। कांग्रेस विधायक दीपेन्द्र सिंह शेखावत, मुरारीलाल मीणा, भंवरलाल शर्मा, परसराम मोरदिया बीमार होने के चलते उदयपुर नहीं पहुंचे।
बीजेपी विधायक को मिला कानूनी नोटिस
एक तरफ जहां उदयपुर के एक रिजॉर्ट में चल रही कांग्रेस की बाड़ाबंदी में विधायक जीत की रणनीति पर काम करने के साथ ही जमकर मौज-मस्ती भी कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी की बाड़ाबंदी में बंद बीजेपी विधायक चंद्रकांता मेघवाल को पुलिस ने पांच साल पुराने एक केस में कानूनी नोटिस जारी है। जानकारी के अनुसार राजस्थान पुलिस ने बीजेपी विधायक चंद्रकांता मेघवाल को पांच साल पुराने एक केस में नोटिस जारी कर कोटा के महावीर नगर थाने में पेश होने का फरमान सुनाया है।


राजस्थान में कौनसा मुद्दा गहलोत सरकार की असफलता को प्रमाणित करता है ?

View Results


क्या गुर्जर आरक्षण पर गहलोत सरकार द्वारा पारित विधेयक पुराने आश्वासनों का नया पिटारा है ?

View Results
Enter your email address below to subscribe to our newsletter

source

About Post Author