May 25, 2022

Health Tips: कई रोगों का नाश करता है कंटकारी, जानें इसके फायदे

wp-header-logo-154.png

Health Tips: प्रकृति के खजाने का अनमोल रत्न कंटकारी का पौधा (Kantakari), कई बीमारियों से बचाने में सक्षम है। यह बिना किसी खाद, पानी और जहां-तहां अपने आप उग जाता है। गर्मी-सर्दी के प्रकोप से यह पौधा बेअसर रहता है। यह बहुत ही उपयोगी जड़ी बूटी है। इसे कई नामों धावनी, क्षुद्रा, रेंगनी, कटाली, कटेरी, भटकटैया, पुट्टाचुंट, येलोबेरीड नाइट शेड और कटेली आदि से जाना जाता है। इसके पत्ते हरे, फूल नीले-बैंगनी या सफेद-पीले रंग के होते हैं। इसके पत्ते कांटों से लदे होते हैं।
गर्म तासीर वाली कंटकारी खांसी के इलाज में बहुत लाभकारी है। गर्म प्रभाव के कारण ही यह कफ और वात रोगों को शमन करने में सक्षम है। यह पाचनशक्ति को प्रबल कर सांस रोगों में भी बहुत लाभकारी है। इसका सेवन पित्त संबंधी विकारों को दूर करता है। इसमें प्रोटीन, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि पोषक तत्वों की मात्रा भी भरपूर पाई जाती है।
ऐसे करें सेवन
नोट: सभी चीजें मात्रा से अधिक हानिकारक होती हैं, यही नियम कंटकारी के लिए भी है। मात्रा और अनुपात सही होना चाहिए। यहां बताए गए उक्त सभी उपाय, उपचार सामान्य हैं। प्रयोग करने से पहले अपने वैद्यजी से सलाह अवश्य करें।
लेखक- वैद्य हरिकृष्ण पांडेय ‘हरीश’
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source