December 6, 2022

Health Tips: बलगम का रंग खोलता है आपके शरीर से जुड़े ये बड़े राज, जानें किस गंभीर बीमारी की हो रही शुरुआत

wp-header-logo-122.png

What does the colour of phlegm say about your health: सर्दियों की दस्तक के साथ ही आलस और सीजनल बीमारियों का आगमन भी हो गया है। बिस्तर में झपकी लेने और हॉट चॉकलेट का आनंद लेने की खुशी के साथ ही गले में खराश, खांसी, सर्दी और बहती नाक जैसी समस्याएं भी हम सभी का इंतजार कर रही हैं। दुख की बात ये है कि सर्दी के (Winter Season) सभी नतीजे सुखद नहीं होते और कोविड के दौर में सर्दी-जुकाम जैसी आम (Seasonal Illness) समस्याओं का खतरा और भी ज्यादा खतरनाक हो गया है। ऐसे में आपको अपनी बॉडी द्वारा दिए जा रहे कुछ संकेतों को लेकर सचेत रहना चाहिए, क्या आप जानते हैं सर्दी और जुकाम के दौरान आपकी बॉडी से निकलने वाले कफ और बलगम के रंग भी आपको कई बीमारियों को लेकर (colour of phlegm) आगाह करते हैं। बहती नाक, खांसी या गले में खराश यह बताती है कि शरीर किसी संक्रमण या बीमारी से लड़ने की कोशिश कर रहा है, लेकिन कफ का रंग बताता है कि कोई व्यक्ति किस बीमारी से पीड़ित (Winter Health Care Tips) हो सकता है।
सबसे पहले, यह जानना बहुत अहम है कि बलगम होना कोई बुरी बात नहीं है। यह वास्तव में शरीर के लिए उपयोगी है क्योंकि यह नाक (Nose), फेफड़ों (Lungs) और वायुमार्ग (Airways) को नम रखने में मदद करता है और संक्रमण से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा कोशिकाओं (Immune Cells) और एंटीबॉडी (Antibodies) को भी रिलीज करता है।
कफ का रंग स्वास्थ्य के बारे में क्या कहता है? (What does the color of phlegm say about health)
सफेद कफ गाढ़ा होता है और क्लियर बलगम की तरह अपारदर्शी (opaque) नहीं होता है। सफेद रंग के कफ का मतलब है कि नाक के टिशूज (Swelling In Nose Tissues) में सूजन आ गई है, जिससे बलगम उतनी तेजी से नहीं निकल पा रहा जितना आमतौर पर निकलता है। कम नमी के कारण यह क्लॉउडी, चमकदार और गाढ़ा हो गया है। यह ब्रोंकाइटिस या भीड़भाड़ वाले साइनस (bronchitis or congested sinuses) का संकेत हो सकता है।
क्लियर बलगम स्वास्थ्य के लिए सबसे अच्छा होता है, इसका मतलब है कि नाक के मार्ग (Nasal Passages) ठंड से प्रभावित नहीं हैं और एंटीबॉडी, पानी, प्रोटीन और एंजाइम श्वसन पथ (respiratory tract) को नम रखे हुए है।
पीले रंग का बलगम गाढ़ा और गहरा भी होता है, इसका मतलब वायरल या बैक्टीरियल संक्रमण हो सकता है। बलगम निचले श्वसन पथ या साइनस (lower respiratory tract or sinuses) में मौजूद हो सकता है – यह हरे रंग में बदल जाता है जब वाइट ब्लड सेल संक्रमण से लड़ने की कोशिश करते हैं।
लाल कफ चिंता का सबसे बड़ा कारण है। अगर खांसी होने पर आपके मुंह से खून निकलता है तो इसका मतलब यह फेफड़ों से आया है औरछाती में संक्रमण या फेफड़ों का ट्यूमर हो सकता है। अगर आप इसे नोटिस करते हैं, तो तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं।
गुलाबी रंग के कफ का मतलब यह हो सकता है कि फेफड़ों में पल्मोनरी एडिमा (pulmonary edema) मौजूद है। इस स्थिति वाले लोग झागदार बलगम छोड़ सकते हैं। इससे सांस की तकलीफ या हार्ट फैल भी हो सकता है।
गंदगी या धूल में सांस लेने से काला कफ हो सकता है। धूम्रपान बलगम में काली धारियां पैदा कर सकता है।
धूम्रपान करने वाले लोगों में ब्राउन म्यूकस होने की संभावना होती है। भूरा बलगम आग या वायु प्रदूषण के धुएं में सांस लेने से आ सकता है। बताते चलें कि यह निमोनिया का लक्षण भी हो सकता है। अगर आप इसे नोटिस करते हैं, तो डॉक्टर से जांच कराएं।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author