September 25, 2022

Health Tips: आपका चेहरा खोलता है स्वास्थ्य से जुड़े कई गहरे राज, दिखें ये संकेत तो हो जाइए सावधान!

wp-header-logo-171.png

हमारा फेस यानी चेहरा हमारे स्वास्थ्य से जुड़े (What Your Face Say About Your Health) कई संकेत देता है, चेहरे पर होने वाले छोटे-बड़े बदलाव के पीछे शरीर के अंदरूनी अंगों की फंक्शनिंग होती है। यही वजह है कि डॉक्टर चेहरा देखकर ही यह पता लगा लेते हैं कि आपके अंदर कोई बीमारी पनप रही है या नहीं। हम यहां आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बता रहे हैं, जो किसी हेल्थ प्रॉब्लम (Health Problems) का इंडिकेटर हो सकता है। जिनसे आपको सतर्क रहने की जरूरत है। सरगंगा राम अस्पताल, दिल्ली के सीनियर फिजीशियन डॉ. एम. वली के मुताबिक हमारे शरीर के सभी अंग एक-दूसरे से जुड़े होते हैं। चेहरे पर पड़ने वाले निशान, पिंपल्स, सूजन, दाने जैसे बदलाव शरीर में पोषक तत्वों की कमी या बीमारी का संकेत करते हैं। इन्हें खान-पान, जीवनशैली में सुधार और डॉक्टर से कंसल्ट करके नियंत्रित किया जा सकता है।
माथे पर दाने होना खान-पान में लापरवाही के चलते पाचन में गड़बड़ी और शरीर में टॉक्सिंस की मात्रा बढ़ने का संकेत देता है। ऐसे में जंक फूड अवॉयड करें। एंटीऑक्सीडेंट्स युक्त खाद्य पदार्थों जैसे-ग्रीन टी, अलसी के बीज, नीबू पानी का सेवन करें। माथे के निचले हिस्से में होने वाले पिंपल्स स्ट्रेस, डिप्रेशन, कमजोर ब्लड सर्कुलेशन, नींद पूरी न होने का संकेत देते हैं। बचाव के लिए रात को जल्दी सोना शुरू करें और रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद लें। सुबह मार्निंग वॉक, मेडिटेशन, योगा करें।
अगर किसी व्यक्ति के बाल 50 साल की उम्र के आसपास गिर रहे हैं, तो आनुवांशिक कारण हो सकते हैं। लेकिन छोटी उम्र से ही बाल गिरना शुरू हो गए हैं, तो यह शरीर में प्रोटीन की कमी की वजह से हो सकता है। ऐसे व्यक्ति को जोड़ों में दर्द, कमर में दर्द, थकान होना, नाखून टेढ़े-मेढ़े होना जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। इससे बचने के लिए प्रोटीनरिच डाइट जैसे-दालें, अंडे का सफेद भाग लें।
यह स्थिति लीवर खराब होने का संकेत करती है, जिससे पेट की दूसरी बीमारियां होने की आशंका रहती है। ध्यान न दिए जाने पर गंभीर रूप ले सकती है। इससे बचने के लिए तकरीबन 10-15 दिन कम मसालेदार हरी सब्जियों का सेवन करें। दिन में कम से कम 2-3 गिलास नीबू पानी पिएं। नीबू पानी लीवर को हेल्दी रखने में हेल्प करता है।
आंखों की नीचे की पलक को हल्का-सा घुमाने पर देखें। अगर अंदर से लाल हो रही है तो यह आपके खाने में शुगर की मात्रा ज्यादा होने का संकेत देती है। ध्यान न देने पर आप डायबिटीज का शिकार हो सकते हैं।
ऐसी आंखें इस बात का संकेत देती हैं कि आपके लिवर या किडनी पर बहुत ज्यादा प्रेशर पड़ रहा है। यह प्रेशर, एल्कोहल पीने, शुगर लेवल बढ़ने या अस्वस्थ जीवनशैली की वजह से पड़ सकता है। इससे बचने के लिए सबसे पहले पानी का सेवन ज्यादा करें। संभव हो तो डिटॉक्स वॉटर पिएं। पानी में एक नीबू और खीरा काट कर कम से कम एक घंटे के लिए रख दें। पानी छान कर पीने से आंखों की सूजन में आराम मिलेगा। आराम न मिलने पर डॉक्टर से कंसल्ट करें।
ये लीवर में फैट और कफ की बढ़ती मात्रा का संकेत देती हैं। जितना ज्यादा लीवर पर भार बढ़ता है, आईब्रो में ज्यादा लाइनें बनती हैं। ऐसे में जंक फूड के बजाय आहार में फल-सब्जियों की मात्रा बढ़ाने से राहत मिलती है।
अगर आंखों के नीचे का हिस्सा काला होने लगे या गर्दन के पीछे का हिस्सा या आर्मपिट के नीचे का हिस्सा काला हो रहा हो तो ये पिगमेंट संकेत देते हैं कि आपका शरीर इंसुलिन रेजिस्टेंट हो रहा है और आप शुगर के मरीज बन रहे हैं। यानी शरीर में बनने वाली इंसुलिन के बनने और स्राव होने का चक्र खराब हो गया है। ऐसे में बिना देर किए डॉक्टर से कंसल्ट करें।
नाक और गाल पर झाइयां या ब्राउन रंग के छोटे-छोटे धब्बे पड़ना, यह संकेत देता है कि आपका शरीर गैर प्राकृतिक चीजों से प्रभावित हो रहा है जैसे- चिप्स का ज्यादा सेवन कर रहे हैं, जरूरत से ज्यादा दवाइयां खा रहे हैं या प्लास्टिक के बर्तनों में चाय पी रहे हैं या खाना खा रहे हैं। ध्यान न देने पर आगे चलकर आर्थराइटिस या हड्डियों की बीमारी होने का खतरा रहता है। इससे बचने के लिए हरी धनिया-लहसुन की चटनी, पोदीना, मेथी जैसी सब्जियों का सेवन करें।
हाई ब्लड प्रेशर के चलते नाक पर मुंहासे हो सकते हैं। या बड़े आकार वाले पिंपल्स खून में अशुद्धता का संकेत करते हैं। एल्कोहल, स्मोकिंग, चाय जैसी चीजों का ज्यादा सेवन करने से होता है। नाक का रंग चेहरे से ज्यादा लाल दिखना लीवर के ठीक से काम नहीं करने की ओर इशारा करता है। नाक के कोने पर सूजन शरीर में शुगर और फैट की बढ़ी हुई मात्रा का संकेत देती है। ऐसे में पानी ज्यादा पिएं और मैदे से बनी चीजों का सेवन अवॉयड करें।
आम धारणा है कि मौसम के असर की वजह से होंठ के किनारे कटते हैं। लेकिन ऐसा विटामिन बी-12 की कमी से भी होता है, जो खून और हार्मोंस को पूरे शरीर में ठीक तरह से पहुंचाने में मदद करता है। विटामिन बी12 के लिए रात में भीगी कच्ची मूंगफली और बादाम के 10-12 दाने रोजाना खाएं।
शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी के साथ-साथ ब्लड सर्कुलेशन ठीक न होने पर होंठ सूखे या बदरंग दिखते हैं। खून में बहुत अधिक नमक, फैटी एसिड और शुगर होने से होंठों का रंग काला पड़ने लगता है। यह किडनी और लीवर की कमजोरी का भी संकेत देते हैं। शरीर में हार्मोनल गड़बड़ी या स्मोकिंग करने से होंठों पर लाइनें पड़ने लगती हैं। जंक फूड खाने, बैठे रहने या कब्ज होने की वजह से होंठों के आस-पास दाने होने लगते हैं। ऐसा होने पर ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियां खाएं और बासी भोजन को अवॉयड करें।
ये शरीर में फंगल इंफेक्शन की ओर इशारा करते हैं, जिसे खुजलाने का असर चेहरे पर भी दिखाई देने लगता है। ऐसे में खट्टी चीजें खानी बंद कर देनी चाहिए। स्किन डॉक्टर को कंसल्ट कर एंटी फंगल मेडिसिन लेनी चाहिए।
प्रस्तुति-रजनी अरोड़ा
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author