November 29, 2022

CWG 2022 : कामनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल विजेता पहलवान नवीन साधारण किसान परिवार से हैं, बचपन से ही कुश्ती का शौक था

wp-header-logo-188.png

 पहलवान नवीन मलिक। 
गन्नौर : गांव पुगथला निवासी नवीन पहलवान ने कामनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games 2022) में पाकिस्तान के पहलवान ताहिर को 9-0 से पराजित कर स्वर्ण पदक जीतकर अपने गांव का नाम रोशन किया । उनके गांव व घर पर खुशी का माहौल है। नवीन ने 74 किलोग्रामभर वर्ग में गोल्ड मेडल जीता है । नवीन के पिता एक साधारण किसान है और खेतों मे ही मकान बनाकर रहते हैं, खेती कर अपना गुजारा चलाते हैं।
नवीन के पांच भाई बहनों में सबसे छोटा है तीन बहने है जो बड़ी है उसके बाद प्रवीन और उसके बाद नवीन है। नवीन की माता भी एक गृहणी है और वो नवीन की इस उपलब्धि पर काफी खुश है। बेटे की जीत पर नवीन के माता-पिता की आंखों में खुशी के आंसू नजर आए। नवीन के पिता धर्मपाल का का कहना है कि हमें बेटे की उपलब्धि पर गर्व है।
पहलवान नवीन के पिता धर्मपाल ने बताया कि नवीन को बचपन से ही कुश्ती का शौक था और उसने नौ साल की उम्र में कुश्ती लड़नी शुरू कर दी थी। उन्होंने बताया कि नवीन के बड़े भाई भी कुश्ती करते है वो 2016 में अपने बड़े भाई के पास सोनीपत में बलवान के पास कुश्ती सीखने के लिए चला गया। धर्मपाल ने बताया कि उसके बड़े भाई प्रवीन की नौकरी नेवी में लग गई उसके बाद नवीन कुलदीप पहलवान के पास कुश्ती सीखने लगा और उसकी भी नौकरी वर्ष 2022 में नेवी में लग गई अब नवीन भी नेवी में नौकरी करता है।
पहलवान के पिता ने बताया कि इससे पहले नवीन नेशनल जूनियर में खेलकर सिल्वर पदक लेकर आए थे उसके बाद नवीन ने मंगोलिया में आयोजित सीनियर वर्ग में 70 किलोग्राम भार में गोल्ड़ मेडल जीतकर देश का नाम रोशन किया था।
पिता धर्मपाल ने बताया कि उन्होंने भैंस का दूध पिला कर अपने बेटे को पहलवान बनाया है। अब उन्हें अपने बेटे के प्रदर्शन पर गर्व तो है लेकिन असली खुशी उन्हें तब होगी जब बेटा देश के लिए ओलिंपिक में पदक जीतकर देश की झोली में डालेगा।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author