November 28, 2022

Commonwealth में 9वें दिन भी छाए हरियाणवी : विनेश फौगाट, रवि दहिया और नवीन का GOLD, पूजा गहलोत, पूजा सिहाग और जैसमीन को Bronze

wp-header-logo-182.png

जीत के बाद विनेश फौगाट
कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 ( Commonwealth Games 2022 ) में नौवें दिन भी हरियाणा के खिलाड़ियों का जलवा कायम रहा। शनिवार को सोनीपत के रवि दहिया और चरखी दादरी की विनेश फौगाट ने गोल्ड मेडल पर कब्जा किया। सोनीपत के नवीन कुमार ने पुरूषों की 74 किग्रा कुश्ती स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता। वहीं सोनीपत की पहलवान पूजा गहलोत ने 50 किलो वेट कैटेगरी में ब्रॉन्ज मेडल जीता है। बॉक्सिंग में भिवानी की जैसमीन और रोहतक की रेसलर पूजा सिहाग को भी महिलाओं की 76 किग्रा कुश्ती स्पर्धा में कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाले पहलवान रवि दहिया और कांस्य पदक विजेता पूजा गेहलोत को बधाई देते हुए कहा कि उनकी जीत खेलप्रेमियों की स्मृतियों में रहेगी। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में भारत अब तक 36 पदक जीत चुका है। इसमें 12 स्वर्ण, 11 रजत और 13 कांस्य पदक शामिल हैं।
टोक्यो ओलंपिक के रजत पदक विजेता रवि दहिया और अनुभवी विनेश फोगाट ने राष्ट्रमंडल खेलों की कुश्ती स्पर्धा में अपेक्षा के अनुरूप प्रदर्शन करते हुए भारत की झोली में स्वर्ण पदक डाले जबकि पूजा गहलोत ने कांस्य जीता। दहिया ने पुरूषों के 57 किग्रा फाइनल में नाइजीरिया के एबिकेवेनिमो वेल्सन को तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 10 . 0 से हराया । इससे पहले उन्होंने न्यूजीलैंड के सूरज सिंह और पाकिस्तान के असद अली को तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर हराया था। वहीं टोक्यो ओलंपिक की नाकामी, अतीत के मानसिक और शारीरिक संघर्षों को पीछे छोड़कर विनेश ने महिलाओं के 53 किग्रा वर्ग में चंद सेकंड में ही श्रीलंका की चामोडिया केशानी मदुरावलागे डॉन को चित करके 4 . 0 से जीत दर्ज की। विश्व चैम्पियनशिप कांस्य पदक विजेता कनाडा की सामंथा ली स्टीवर्ट के खिलाफ विनेश का पहला मुकाबला कठिन था लेकिन उसने महज 36 सेकंड में जीत दर्ज की थी। इसके बाद विनेश का सामना नाइजीरिया की मर्सी बोलाफुनोलुवा एडेकुरोये से हुआ जिसकी कठिन चुनौती का इस भारतीय पहलवान ने बखूबी सामना किया। महिलाओं के 53 किलोवर्ग में चार ही पहलवान थे। फॉर्म और फिटनेस के लिये जूझ रही विनेश टोक्यो ओलंपिक में पहले दौर से बाहर हो गई थी।
महिलाओं के 50 किलो वर्ग में पूजा गेहलोत ने स्कॉटलैंड की क्रिस्टेले एल को कांस्य पदक के मुकाबले में तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 12 . 2 से हराया। पहले मैच में इसी प्रतिद्वंद्वी को हराने के बाद कैमरन की रेबेका एंडोलो मुआम्बो पर वाकओवर मिला था। सेमीफाइनल में हालांकि वह कनाडा की मेडिसन बियांका पार्क्स से हार गई थी। नवीन भी 74 किलोवर्ग में फाइनल में पहुंच गए हैं। उन्होंने नाइजीरिया के ओग्बोना एमैन्युअल जॉन को तकनीकी श्रेष्ठता पर हराया। इसके बाद सिंगापुर के हांग यू लोउ और इंग्लैड के चार्ली जेम्स बोलिंग को मात दी। अब वह पाकिस्तान के ताहिर मुहम्मद शरीफ से खेलेंगे। पुरूषों के 97 किलोवर्ग में दीपक भी कांस्य के लिये पाकिस्तान के तैयब रजा से खेलेंगे।
निकहत, पंघाल और नीतू फाइनल में, जैसमीन को कांस्य पदक
मौजूदा विश्व चैम्पियन मुक्केबाज निकहत जरीन, अमित पंघाल और नीतू गंघास ने शनिवार को यहां राष्ट्रमंडल खेलों की अपनी स्पर्धाओं के फाइनल में पहुंचकर भारत के लिये रजत पदक पक्के कर लिए जबकि जैसमीन ने लाइटवेट सेमीफाइनल में हारकर कांस्य पदक जीता। जैसमीन लाइटवेट ( 57-60 किग्रा) स्पर्धा के सेमीफाइनल में इंग्लैंड की जेमा पेज रिचर्डसन से 2-3 से हार गई जिससे उन्होंने कांस्य पदक से संतोष किया। निकहत ने लाइट फ्लाईवेट (48-50 किग्रा) के एकतरफा सेमीफाइनल में इंग्लैंड स्टबले अलफिया सवानाह को 5-0 के सर्वसम्मत फैसले से पराजित किया। 26 साल की इस मुक्केबाज ने अपना दबदबा जारी रखते हुए तीनों दौर में सर्वाधिक अंक जुटाए। वह फाइनल में उत्तरी आयरलैंड की कार्ले मैकनाॉल के सामने हाोंगी। अमित पंघाल ने पुरूषों की फ्लाईवेट (48-51 किग्रा) स्पर्धा में शानदार प्रदर्शन के बूते राष्ट्रमंडल खेलों में लगातार फाइनल में प्रवेश किया। पिछली बार उन्हें रजत पदक से संतोष करना पड़ा था जिससे इस बार वह पदक का रंग बदलना चाहेंगे। उन्होंने सेमीफाइनल में जिम्बाब्वे के पैट्रिक चिनयेम्बा को सर्वसम्मत फैसले में 5-0 से पराजित किया। सात अगस्त को फाइनल में उनका सामना इंग्लैंड के मैकडोनल्ड कियारान से होगा।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author