August 8, 2022

हड्डियों को ऐसे बनाएं मजबूत, इन आसान तरीकों से आप रहेंगे एक्टिव और फिट

wp-header-logo-92.png

हड्डियों को ऐसे बनाएं मजबूत
गलत लाइफस्टाइल (Lifestyle), डाइट (Diet) में लापरवाही और एक्टिवनेस में कमी होने की वजह से बोंस समय से पहले वीक होने लगती हैं। इससे ज्वाइंट पेन (Joint Pain), मसल स्टिफनेस, ऑस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) जैसी कई तरह की प्रॉब्लम्स फेस करनी पड़ सकती हैं। हडि्डयों के कमजोर होने के कारणों और इसको मजबूत बनाने के तरीकों के बारे में डिटेल में जानिए। एक वक्त था जब हड्डी और जोड़ों संबंधी समस्याएं सिर्फ बुजुर्गों में देखने को मिलती थीं। जबकि आज के समय में अधेड़ और युवाओं को भी कमजोर हड्डी और जोड़ों की समस्या होने लगी हैं।
कमजोर हड्डियों के कारण लोग समय से पहले बूढ़े होने लगे हैं। बदलती लाइफ स्टाइल (Lifestyle) के साथ हम अपने स्वास्थ्य को खुद बिगाड़ रहे हैं। इसके कुछ खास कारणों में धूम्रपान, शराब का सेवन, नमक का अत्यधिक सेवन, अस्वस्थ आहार आदि शामिल हैं। हड्डियां हमारे शरीर और मांसपेशियों का आधार होती हैं। बेहतर स्वास्थ्य और दिनचर्या के लिए हड्डियों का मजबूत होना बहुत जरूरी है। पी.डी.हिंदुजा नेशनल अस्पताल, मुबंई के हेड-आर्थोपेडिक्स डॉ. संजय अग्रवाला के अनुसार हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए पहले इनके कमजोर होने के कारणों को जानना जरूरी है।
गतिहीन जीवनशैली
आरामदेह जीवनशैली कमजोर हड्डियों का मुख्य कारण होती हैं। दरअसल, हड्डियों को स्वस्थ और मजबूत बनाए रखने के लिए सक्रिय रहना बहुत जरूरी है। अगर आप आराम ज्यादा करते हैं, तो आपको हड्डी संबंधी समस्याएं होने की संभावना बढ़ती है। खासतौर पर ऑस्टियोपोरोसिस होने की आशंका बढ़ जाती है।
कैल्शियम की कमी
आजकल देखा जाता है कि हल्की-सी चोट लगने या झटका लगने पर ही कुछ लोगों की हड्डी टूट जाती है। हड्डियों के कमजोर होने का मुख्य कारण शरीर में कैल्शियम की कमी भी हो सकती है। कैल्शियम की कमी के कारण ऑस्टियोपेनिया और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करना जरूरी है।
विटामिन डी की कमी
हड्डियां कैल्शियम से बनी होती हैं, लेकिन हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए सिर्फ कैल्शियम का सेवन ही काफी नहीं है। बल्कि विटामिन डी का सेवन भी आवश्यक है। विटामिन डी की कमी से हड्डियों में अकड़न आने लगती है और मांसपेशियों में कमजोरी आती है। आपकी हड्डियां इतनी कमजोर पड़ सकती हैं कि आपको चलने-फिरने में भी समस्या हो सकती है।
धूम्रपान-शराब का सेवन
घूम्रपान और शराब के अत्यधिक सेवन से विटामिन डी और कैल्शियम शरीर में ठीक से एब्जॉर्ब होना बंद कर देते हैं, जिसके कारण हड्डियां कमजोर होने लगती हैं। डब्ल्यूएचओ की एक रिपोर्ट के अनुसार, आठ में से एक हिप फ्रैक्चर सिगरेट पीने से होता है। इसके अलावा बोन इंजरी के मामले में जो व्यक्ति धूम्रपान करता है, उसे रिकवर होने में ज्यादा समय लगता है और परेशानियां बढ़ने का अधिक खतरा बना रहता है। धूम्रपान और अत्यधिक शराब का सेवन हड्डियों को खोखला कर देता है।
अनहेल्दी डाइट
इसमें कोई शक नहीं कि हड्डियों की मजबूती के लिए शरीर को पोषण मिलना जरूरी है। इस भागदौड़ भरी जिंदगी में अधिकतर लोग घर से बाहर का जंक फूड और फास्ट फूड खाना पसंद करते हैं। पिज्जा, बर्गर, नूडल्स, चाट-पकोड़े, समोसा जैसी चीजों से पेट तो भर जाता है लेकिन लोगों के शरीर को पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता है। इससे हड्डियां इतनी कमजोर हो जाती हैं कि कम उम्र में ही लोगों को हड्डियों का दर्द, छोटी-सी चोट से फ्रैक्चर आदि की समस्याएं हो जाती हैं। इसलिए हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए पोषण युक्त आहार का सेवन करना बहुत जरूरी है।
कमजोर हड्डियों के लक्षण
-शरीर के जोड़ों में अकसर दर्द महसूस होना।
-नाखूनों का अधिक टूटना।
-छोटी-सी चोट से फ्रैक्चर होना।
-किसी भी काम को करने में ज्यादा ताकत लगना।
-मांसपेशियों में दर्द और ऐंठन होना।
हड्डियों को ऐसे बनाएं मजबूत
कुछ बातों को अपनी दिनचर्या में शामिल करने और हेल्दी डाइट लेने से कमजोर हडि्डयों को मजबूत बनाया जा सकता है। अगर आप यहां बताई जा रही बातों का ध्यान रखेंगे तो हड्डियां मजबूत बनी रहेंगी।
एक्सरसाइज करें : टहलने और दौड़ने से न केवल शारीरिक, बल्कि मानसिक क्षमता भी बढ़ती है। साथ ही तनाव दूर होता है। वजन उठाने वाली कसरत, चलना, दौड़ना और सीढ़ियां चढ़ना, ये व्यायाम हर उम्र में हड्डियों को स्वस्थ बनाए रखने में लाभदायक हैं। इसके अलावा डांस भी एक बेहतरीन एक्सरसाइज है, जिसे करने में हर किसी को मजा भी आता है और हड्डियों का स्वास्थ्य भी बना रहता है। इसलिए रेग्युलर ये एक्सरसाइज करें।
लें न्यूट्रिशस डाइट: शरीर को पर्याप्त कैल्शियम, मिनरल्स और अन्य पोषक तत्व मिलते रहें, इसके लिए आप दूध, दही, ब्रोकली, हरी पत्तेदार सब्जियां, तिल के बीज, अंजीर, सोया और बादाम का दूध जैसे पौष्टिक आहार का सेवन करें। इसके अलावा डेयरी उत्पाद, कई अनाज, सोया दूध और बादाम के दूध के सेवन से विटामिन डी और कैल्शियम की जरूरत पूरी कर सकते हैं।
रोजाना गुनगुनी धूप में बैठें : विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की रोशनी है। हर दिन 15 मिनट के लिए सुबह की गुनगुनी धूप में बैठने से हड्डियों की कमजोरी दूर होती है। इसलिए सर्दी हो या गर्मी सुबह की गुनगुनी धूप का अनंद लेना कभी न भूलें। हड्डियों को मजबूत बनाना है तो धूम्रपान का सेवन बंद कर दें और शराब का सेवन भी न करें।
नमक का कम सेवन : नमक का अत्यधिक सेवन हड्डियों को गलाता है। साथ ही खून को भी प्रभावित करता है, जिससे हड्डियां खोखली होने लगती हैं और आपका जीवन मुश्किल हो जाता है। इसलिए खान-पान में नमक का अधिक सेवन करने से बचें।
पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं : पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें। क्योंकि पानी कई बीमारियों का रामबाण इलाज होने के साथ यह हड्डियों को भी मजबूत और लचीला बनाता है। पानी की पर्याप्त मात्रा के सेवन से हड्डियों में जकड़न की समस्या भी दूर होती है। इसलिए दिनभर में कम से कम 3 लीटर पानी पीना जरूरी है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author