July 1, 2022

Kota: देवा गुर्जर की हत्या के बाद हंगामा, पुलिस पर पथराव, बसों को फूंका, रावतभाटा CI राजाराम लाइन हाजिर

wp-header-logo-113.png

news website
कोटा. कोटा के बोराबास निवासी हिस्ट्रीशीटर देवा गुर्जर की हत्या के बाद मंगलवार को भारी हंगामा हो गया। एमबीएस अस्पताल की मोर्चरी के बाहर परिजनों व गुर्जर समाज के लोगों ने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर पुलिस पर पथराव कर दिया, वहीं पुलिस को भी लाठियां चलानी पड़ी। यही नहीं रावतभाटा रोड पर दो बसों को आग के हवाले कर दिया।
हंगामे के बाद करीब 3 घंटे तक पुलिस व प्रदर्शनकारियों के बीच वार्ता का दौर चला, उसके बाद कुछ मांगों पर सहमति बन गई। घटनाक्रम की गंभीरता को देखते हुए सीआई राजाराम को लाइन हाजिर कर दिया गया। हत्या के बाद देवा गुर्जर के शव को कोटा की मोर्चरी में रखवाया गया। पोस्टमार्टम रूम के बाहर मंगलवार सुबह भारी भीड़ जमा हो गई और पुलिस अधिकारियों से उलझ गई।

इस दौरान पुलिस महानिरीक्षक रविदत्त गौड, शहर पुलिस अधीक्षक केसर सिंह शेखावत भी मौके पर पहुंच गए। वहीं बोराबास में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने सड़क पर टायर जलाए। इस दौरान आक्रोशित भीड़ ने दो रोडवेज की बसों को भी निशाना बनाया और हंगामा किया। नगर निगम की दमकलें पुलिस जाब्ते के साथ वहां पहुंची और आग पर काबू पाया।

हंगामे और स्थिति को देखते हुए रावतभाटा जाने वाले यात्रियों को वापस लौटना पड़ा। देवा गुर्जर सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव था और छोटे-छोटे वीडियो बनाकर अपलोड करता था। समाज में भी उसकी अच्छी पेठ थी, जिसके कारण समाज का हर तबका उसकी मौत से आक्रोशित दिखाई दिया। करीब तीन घंटे चले हंगामे के बाद पुलिस और परिजनों में सहमति बन गई। रावतभाटा सीआई राजाराम को लाइन हाजिर दिया, पीड़ित प्रतिकर स्कीम के तहत 5 लाख की अर्थिक सहायता, परिजन को नौकरी के लिए सरकार को प्रस्ताव भेजने पर शव को परिजन लेकर गए।

दोस्त पर लगाया हत्या का आरोप
परिजनों ने देवा गुर्जर की हत्या का आरोप उसके ही दोस्त बदमाश बाबूलाल गुर्जर पर लगाया है। बाबूलाल 5 महीने से देवा गुर्जर के संपर्क में था। दोनों इंस्टाग्राम रील भी बनाते थे। देवा के भाई रंगलाल और नंदलाल ने बाबूलाल व उसके साथियों पर मर्डर का आरोप लगाया है। रंगलाल और नंदलाल ने बताया देवा के पास 8-10 गाड़ियां थी, जो रावतभाटा प्लांट में किराए पर लगा रखी थी।
देवा की कमाई देख कोटा के चेचट का रहने वाला बाबूलाल उसे धमकाने लगा था। अवैध वसूली के 5 लाख रुपए मांग रहा था। देवा ने रुपए देने से मना कर दिया था। 8-10 दिन पहले दोनों के बीच झगड़ा हुआ था, इसकी रिपोर्ट देने देवा गुर्जर आरकेपुरम थाने पहुंचा था। वहां परसाराम, श्योपर व बाबूलाल भी आ गए थे। दोनों पक्षों के बीच बहस हुई थी। आरोप है कि परसाराम व श्योपर ने पुलिस के सामने ही देवा को देख लेने की धमकी दी थी।
परिजनों का कहना है कि देवा की हत्या पूरी प्लानिंग से की गई है। सोमवार को देवा गाड़ी ठीक करवाने रावतभाटा गया था। देवा के साथ उसके दो-तीन साथी भी थे। गाड़ी को मिस्त्री के यहां ठीक करवाने डालकर देवा सैलून की दुकान पर आया था, जहां मौका देखकर बदमाशों ने देवा गुर्जर को मौत के घाट उतार दिया।
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source