July 1, 2022

Health Tips: शरीर में दिखाई दे रहे इन बदलावों को न करें नजरअंदाज, किडनी से जुड़ी हो सकती है परेशानी

wp-header-logo-108.png

Health Tips: विश्व में किडनी की बीमारी (Kidney Disease) लाखों लोगों को प्रभावित करती है, और कुछ ही ऐसे लक्षण हैं जिनसे आपको पता चल सके कि आप किडनी की बीमारी (Symptoms of Kidney Disease) से पीड़ित हैं। लक्षणों की कमी के कारण अक्सर “शांत रोग” (Quiet Disease) के रूप में जाना जाता है। जब तक ये बीमारी अपने चरम पर नहीं पहुंच जाती अधिकांश लोगों को इस बात का पता ही नहीं चलता कि वह किडनी की बीमारी से पीड़ित हैं।
इसके अलावा कई लोग शुरुआती चेतावनी के लक्षणों को नजरअंदाज कर देते हैं, जबकि किडनी की बीमारी को जल्दी पकड़ने का मतलब जीवन और मृत्यु के बीच का अंतर हो सकता है। यहां हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताएंगे जिन्हें आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और तुरंत किसी विशेषज्ञ की सलाह लेनी चाहिए…
पेशाब में बदलाव
आमतौर पर किडनी खराब होने का सबसे स्पष्ट संकेत पेशाब करने की आदतों में बदलाव होता है। शरीर में यूरीन का बनना किडनी का एक काम है और इसलिए कोई भी बड़ा परिवर्तन जैसे: कम यूरीन, अधिक बार पेशाब करना, रंग में परिवर्तन, झाग, गंध, दर्द, या मूत्र में रक्त, सभी गुर्दे के साथ एक समस्या का लक्षण हो सकते हैं।
यूरीन में प्रोटीन
यह देखने के लिए कि क्या आपके मूत्र में कोई रक्त मौजूद है, जो कि एक नियमित शारीरिक गतिविधि का हिस्सा है, आपको अपने डॉक्टर से जांच करानी चाहिए। किडनी डैमेज के कारण रक्त कोशिकाओं के साथ-साथ आपकी यूरीन में प्रोटीन का रिसाव होने लगता है। सालाना जांच करवाना एक अच्छा विचार है, खासकर तब जब आपके पास कोई अन्य कारण है जो आपको किडनी की बीमारी से पीड़ित कर सकता है।
लोअर बैक पेन
अगर आपके लोअर बैक में पेन होता है तो ये किडनी से रिलेटेड हो सकता है, जो रिब केज के नीचे या साइडो में पाई जाती है। अगर अचानक से आपके लोअर बैक में पेन होनें लगा है तो इसे गंभीरता से लें क्योंकि ये किडनी की समस्या से जुड़ा दर्द भी हो सकता है।
टखनों और पैरों में सूजन
गुर्दे की कार्यक्षमता में कमी से सोडियम रिटेंशन हो सकता है, जिससे आपके पैरों और टखनों में सूजन हो सकती है। निचले छोरों में सूजन भी दिल या लिवर की बीमारी का एक लक्षण हो सकता है। इसके अलावा ये पुरानी पैर की नसों की समस्याओं का संकेत हो सकता है।
अधिक थकान लगना और ध्यान केंद्रित करने में परेशानी
किडनी में गंभीर बीमारी होनें के कारण ब्लड में विषाक्त पदार्थों और अशुद्धियों का निर्माण हो सकता है। इससे लोगों को थकान, कमजोरी महसूस हो सकती है और ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो सकता है। गुर्दे की बीमारी की एक और जटिलता एनीमिया है, जो कमजोरी और थकान का कारण बन सकती है। क्योंकि किडनी रेड ब्लड सेल्स के उत्पादन में मदद करते हैं, जो कुछ लक्षण पैदा कर सकते हैं। इसके साथ ही यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के समान लक्षण भी किडनी की बीमारी का संकेत हो सकते हैं।
नोट: यहां दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान पर आधारित है, किसी भी निष्कर्ष पर पहुंचने से पहले विशेषज्ञ से सलाह अवश्य लें।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source