November 28, 2022

Delhi Air Pollution: पराली के अलावा इन 4 चीजों ने भी दिल्ली की हवा को बनाया 'जहरीली', पढ़िये कारण

wp-header-logo-85.png

दिल्ली-NCR में वायु प्रदूषण (Air Pollution) इस समय अपनी चरम सीमा पर है। दिल्ली की हवा इतनी जहरीली (Poisonous) हो चुकी है कि कई इलाकों में आज वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) का लेवल 500 से ऊपर पहुंच चुका है। पंजाब (Punjab) और अन्य राज्यों में जलने वाली पराली (Stubble Burning) को दिल्ली में होने वाले प्रदूषण का मुख्य कारण माना जाता है। इसको लेकर आज दिल्ली के LG ने पंजाब के CM भगवंत मान (Bhagwant Mann) को पत्र भी लिखा है। हालांकि सिर्फ पराली ही दिल्ली की हवा को जहरीली बनाने के लिए जिम्मेदार नहीं है। कई अन्य वजह हैं, जो दिल्ली की हवा में जहर घोल देती हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ वजहों के बारे में बताने वाले हैं।
प्रदूषण की पांच मुख्य वजहें

1:- वाहनों का धुआं
सेंटर फॉर साइंस एंड एंनवॉयर्नमेंट (CSE) की रिपोर्ट के अनुसार, वाहनों से निकलने वाला धुआं (Vehicle Smoke) दिल्ली की हवा को जहरीली बनाने की मुख्य वजहों में से एक हैं। 21 से 26 अक्टूबर बीच की गई एनालिसिस के आधार पर बताया गया है कि कार और दूसरे वाहनों से निकलने वाले धुएं से दिल्ली की हवा का PM 2.5 का स्तर 51% तक बढ़ गया। इसे रोकने के लिए हर साल दिल्ली में ऑड-ईवन नियम (Odd-Even Rule) भी लागू किया जाता है।
2:- पराली
पंजाब और अन्य पड़ोसी राज्यों में जलाई जाने वाली पराली दिल्ली को हवा को प्रदूषित करने की सबसे मुख्य वजह है। दिल्ली में 1 नवंबर से 15 नवंबर के बीच प्रदूषण के हालात तेजी से बिगड़ते है, क्योंकि इन्ही दिनों में सबसे ज्यादा पराली जलाई जाती है। सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) की रिपोर्ट के अनुसार पराली जलने से हवा में PM 2.5 का आंकड़ा बढ़ता है। पराली जलाए जाने के कारण बीते बुधवार को हवा में PM 2.5 38 फीसदी और गुरुवार को 32 फीसदी रहा।
3:- इमारतों का निर्माण
दिल्ली में लगातार इमारतों के कंस्ट्रक्शन से जुड़ी गतिविधियां हवा भी हवा को दूषित करने की मुख्य वजह हैं। निर्माण स्थलों (Construction Sites) से निकलने वाली धूल (Dust) हवा को बुरी तरह प्रदूषित करती है। इसके अलावा निर्माण स्थलों पर लगे हॉट मिक्स प्लांट्स और क्रशर्स भी हवा को दूषित करने का काम करते हैं। इसको रोकने के लिए दिल्ली सरकार ने निर्माण स्थलों को लेकर कई तरह के नियम बनाए हैं, जिनका पालन ना करने पर भारी जुर्माना भी लगाया जा रहा है।
4:- तेज हवाओं का ना चलना
दिल्ली की जलवायु (Climate) भी वायु प्रदूषण की मुख्य वजह है। विशेषज्ञों के अनुसार दिल्ली में तेज हवाएं पंजाब और बाकी राज्यों की अपेक्षा कम चलतीं हैं। तेज हवाओं से ही वातावरण में मौजूद स्मोक साफ होता है। लेकिन दिल्ली में तेज हवाओं के न चलने से स्मोक टिका रहता है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार दिल्ली में तेज हवाओं के चलने की संभावना अभी कम है। इसके कारण स्मोक का असर भी लंबे समय तक रहेगा।
5:- पटाखे
सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फॉरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) की रिसर्च के अनुसार दिवाली (Diwali) के आसपास चलने वाले पटाखे (Firecrackers) भी दिल्ली की हवा को जहरीली बनाने का काम करते हैं। हालांकि इस बार बार पटाखों पर कड़ा बैन होने के कारण पिछले सालों की तुलना में हवा को दूषित करने में पटाखों का ज्यादा योगदान नहीं रहा।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author