September 25, 2022

Health Tips: डिलीवरी पेन को कम करने के लिए अपनाएं ये Breathing Techniques

wp-header-logo-36.png

Health Tips: कई महिलाओं (Women) के लिए लेबर पेन (Labor Pain) या डिलीवरी पेन (Delivery Pain) डरा देने वाला हो सकता है, खासकर उनके लिए जो इसे पहली बार फेस कर रही हैं। इसे बयां कर पाना भी मुश्किल है। प्रसव पीड़ा बर्दाश्त के बाहर होने वाला एक दर्द है, जिसके लिए गर्भवती महिलाओं (Pregnant Women) को खुद को तैयार करना होता है। इस दर्द को कम करने के लिए योगा (Yoga) और मेडिटेशन (Meditation) की सलाह दी जाती है, जिससे आप अपनी सांसो के पैटर्न (Breathing Pattern) पर कंट्रोल करना सीख सकती हैं। पैटर्न ब्रीदिंग आपके दिमाग को कॉन्ट्रैक्शन के दर्द (Contraction Pain) से निकालने में मदद कर सकती है और साथ ही साथ खुद पर कंट्रोल करना भी सिखा सकती हैं। अपनी इस स्टोरी में हम आपके लिए कुछ ब्रीदिंग टैक्नीक्स (Breathing Techniques) लाएं हैं, जो धैर्य बांधने में आपकी मदद कर सकते हैं।
हल्की सांस के साथ शुरुआत करें
जैसे ही कॉन्ट्रैक्शन शुरू होती है, अपनी नाक से गहरी सांस लें और फिर अपने शरीर को टाइट होने दें, अपने मुंह से सांस छोड़ते हुए सारा तनाव बाहर छोड़ दें। कुछ बार दोहराएं, सुनिश्चित करें कि आप लंबे समय तक सभी मांसपेशियों को आराम दें।
गिनती करें
जैसे ही आप सांस लेते हैं, धीरे-धीरे 3 या 4 तक गिनें और जैसे ही आप सांस छोड़ते हैं, फिर से तीन या चार तक गिनें। आप देखेंगे कि तीन की गिनती तक सांस लेना और चार की गिनती तक सांस छोड़ना अधिक आरामदायक है।
कॉन्ट्रैक्शन तेज होनें पर
अपनी सांसों को तेज करें और इन्हें हल्का रखते हुए, अपने मुंह से तेजी से सांस लें और छोड़ें, लगभग एक सांस प्रति सेकंड। अपनी सांसों को शांत रखें और इन्हें सुननें पर ध्यान दें। इसके बाद हल्की सांस लेने में मामूली बदलाव लाएं। हल्की सांसो को लें और स्पष्ट सांस छोड़ें। इस टेक्नीक से लेबर पेन को लेकर आपका तनाव कम होगा।
सांस लेने के पैटर्न में बदलाव और लेबर के स्ट्रेस से आपका मुंह काफी सूख सकता है। इसके लिए आप कॉन्ट्रैक्शन के बीच पानी की सिप लेकर या बर्फ के चिप्स चूसकर इसे कम कर सकती हैं। सांस लेते समय अपनी जीभ मोड़ते हुए पीछे के तालू को छूने का प्रयास करें, ऐसे में आप जैसे-जैसे सांस लेंगी आपकी सांस आपके मुंह को सूखने से बचाएगी।
लेबर की फाइनल स्टेज पर
जैसे-जैसे आप फाइनल स्टेज की ओर बढ़ेंगी वैसे- वैसे दर्द तेज हो सकता है, इसलिए हिम्मत से काम लें। एक बार जब सर्विक्स पूरी तरह से फैल जाती है, तो आपको उन सांसों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता होगी जो बच्चे को दुनिया में लाने में आपकी मदद करेंगी। आप दर्द से ध्यान हटाकर अपने होने वाले बच्चे पर ध्यान केंद्रित करें। याद रखें पेल्विक फ्लोर को आराम देना है और बच्चे को नीचे आने में मदद करने के लिए पेरिनेम में किसी भी तरह के स्ट्रेस को न आने दें।
Note: यहां दी गई जानकारी सामान्य ज्ञान पर आधारित है, जिनकी हरिभूमि पुष्टि नहीं करता है। टिप्स को फॉलो करने से पहले एक बार अपने हेल्थ एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author