September 25, 2022

Health Tips: क्या स्मोकिंग का पड़ रहा आपकी आंखो पर असर, जानें कैसे

wp-header-logo-63.png

Health Tips: भारत में हर साल लगभग 1 मिलियन लोगों की मृत्य धूम्रपान (Smoking) करने के कारण होती है। रिपोर्ट्स कहती हैं कि देश की आबादी के लगभग 34.6 प्रतिशत व्यस्क लोग स्मोकिंग यानी धुम्रपान करते हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स मानते हैं कि धूम्रपान कैंसर (Cancer) और हृदय रोगों (Heart Diseases) जैसे गंभीर रोगों का चौथा प्रमुख कारण है। हर साल भारत में होनें वाली कुल मौतों में 53 प्रतिशत के पीछे ये रोग होते हैं। स्मोकिंग के कारण कई सारे रोग हमारे शरीर को घेर लेते हैं ये बात तो लगभग सभी लोग जानते हैं। पर क्या आप इस बात को जानते हैं कि धूम्रपान यानी स्मोकिंग आंखों (Eyes) पर भी अपने दुष्प्रभाव डालता है और साथ ही इससे दृष्टि खोनें का भी खतरा रहता है। अपनी इस स्टोरी में हम आपको आंखो पर धूम्रपान के दुष्प्रभावों से अवगत कराएंगे।
विशेषज्ञ बताते हैं कि सिगरेट के धुएं में मौजूद विषाक्त पदार्थ अंत में रक्तप्रवाह में मिल जाते हैं जो आंखों सहित पूरे शरीर में फैल जाते हैं। इससे आंखों की विभिन्न प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं जैसे सूखी आंख, मोतियाबिंद, डायबिटिक रेटिनोपैथी। यदि समय पर पर्याप्त उपाय नहीं लिए जाएं तो अधिकांश मामलों में स्थायी अंधापन भी हो सकता है। इसके अलावा, तंबाकू का धुआं आंखों के आसपास मौजूद ऊतकों को भी प्रभावित कर सकता है, जिससे पलकों में गड़बड़ी और आंखों के नीचे की सूजन हो सकती है। तंबाकू के धुएं में 7,000 से अधिक खतरनाक रसायन होते हैं, जिनमें से कुछ आंखों के स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक हो सकते हैं।
ड्राई आई (Dry Eye)
यह तब होता है जब आंख की सतह को लुब्रिकेट करने के लिए आंखों द्वारा पर्याप्त मात्रा में आंसू नहीं पैदा होते हैं। सूखी आंख के लक्षणों में आमतौर पर लालिमा, किरकिरा महसूस होना, सामान्य बेचैनी और चुभन शामिल हैं। सूखी आंख में तंबाकू का धुआं एक प्रमुख योगदानकर्ता है क्योंकि यह आंसू फिल्म की लिपिड परत को तोड़ सकता है।
एज रिलेटेड मैक्यूलर डिजेनेरेशन (Age Related Macular Degeneration )
एएमडी केंद्रीय दृष्टि के नुकसान के साथ शुरू होता है जिससे व्यक्ति के लिए बारीक विवरण देखना और पढ़ना मुश्किल हो जाता है। समय के साथ, दृष्टि हानि काफी बढ़ जाती है। एएमडी के 2 प्रकारों में, शुष्क एएमडी काफी सामान्य होता है। शुष्क एएमडी के मामले में, फैटी डिपॉसिट आंख के पीछे (रेटिना) में प्रकाश-संवेदी कोशिकाओं के नीचे इकट्ठा होना शुरू हो जाता है। शुष्क एएमडी में, दृष्टि हानि आमतौर पर धीरे-धीरे खराब हो जाती है। जब एएमडी को गीला करने की बात आती है, तो रेटिना के नीचे की छोटी रक्त वाहिकाएं खुल जाती हैं या लीक हो जाती हैं। इससे दृष्टि बदल जाती है और निशान ऊतक बन जाते हैं।
मोतियाबिंद (Cataract)
धूम्रपान से किसी भी उम्र में मोतियाबिंद का खतरा बढ़ जाता है। मोतियाबिंद को आंख के स्वाभाविक रूप से स्पष्ट लेंस के बादल के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। जैसे जैसे लोगों की उम्र बढ़ती है वैसे- वैसे ये बढ़ता चला जाता है। ज्यादातर उम्रदराज लोगों और धूम्रपान करने वालों में दिखाई देने वाला मोतियाबिंद अपारदर्शी और धुंधली दृष्टि का कारण बन सकता है जिसे सर्जरी द्वारा ठीक किया जा सकता है।
ग्लूकोमा (Glaucoma)
ग्लूकोमा आंखों के अंदर बढ़ते दबाव के कारण होने वाली आंखों की बीमारियों का एक समूह होता है। बढ़ा हुआ दबाव आमतौर पर आंख के अंदर अतिरिक्त तरल पदार्थ के निर्माण के कारण होता है। इससे ऑप्टिक तंत्रिका को नुकसान पहुंचाता है, जो मस्तिष्क और आंखों के बीच एकमात्र संबंध है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author