November 28, 2022

Gandhi Jayanti: बापू को कब और किसने दी राष्ट्रपिता की उपाधि? जानें गांधी जयंती का इतिहास और कुछ अहम तथ्य

wp-header-logo-21.png

Gandhi Jayanti 2022: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Father Of Nation) का पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी (Mohandas Karamchand Gandhi) है, उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। बता दें कि 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के जन्मदिन के साथ-साथ भारत (India) के एक और महान व्यक्ति लाल बहादुर शास्त्री (Lal Bahadur Shastri) का भी जन्मदिन होता है। शास्त्री का जन्म 1904 में हुआ था, इस वर्ष हम महात्मा गांधी की 153वीं जयंती मना रहे हैं, आज की इस खबर में हम आपको बापू की जयंती से जुड़े इतिहास, महत्व और तथ्यों के बारे में कुछ अहम बाते बताएंगे।
अहिंसा के प्रतिक माने जाने वाले महात्मा गांधी की जयंती को संयुक्त राष्ट्र (United Nations) द्वारा अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस (International Day of Non-Violence) के रूप में मनाया जाता है। साल 2022 में गांधी जी की 153वीं जयंती मनाई जा रही है और बापू एक ऐसे भारतीय हैं जिनकी लोकप्रियता महज भारत तक ही सीमित नहीं है, कहीं न कहीं पूरी दुनिया गांधी जयंती मनाती है। गांधी जी को विश्वभर में एक महान नेता माना जाता है जिनका भारत को स्वतंत्रता दिलाने में बहुत बड़ा योगदान रहा है। उनके मार्गदर्शन और अहिंसावादी तरीकों ने नागरिक अधिकार आंदोलनों को जन्म दिया और इससे दुनिया में कई महत्वपूर्ण बदलाव भी आए।
महात्मा गांधी ने अपने शुरुआती दिनों में कानून (Law) का अध्ययन किया और अभ्यास किया, लेकिन बाद में उनकी विचारधारा ने सभी भारतीयों को देश पर शासन करने वाले अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह करने के लिए एकजुट किया। गांधी जी का मुख्य आदर्श ‘शांति’ (Peace) था। 1930 में आयोजित दांडी नमक मार्च और 1942 के भारत छोड़ो आंदोलन में देश के सभी हिस्सों के लोग उनके साथ शामिल हुए, इन आंदोलनों में बड़े पैमाने पर अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ खड़े हुए और अंग्रेजों को भगाने में बहुत बड़ी भूमिका निभाई।
महात्मा गांधी बचपन से पढ़ाई में अच्छे नहीं थे, वह मैथ्स और जियोग्राफी में कमजोर थे, उनकी लिखावट अच्छी नहीं थी। अक्सर गांधी जी को पढ़ाई और लिखावट के लिए डांट पड़ती थी। हालांकि वह अंग्रेजी में निपुण छात्र थे, कम उम्र में ही गांधी जी की शादी पोरबंदर के एक व्यापारी परिवार की बेटी कस्तूरबा से कर दी गई। कस्तूरबा (Kasturba Gandhi) गांधी जी से उम्र में 6 महीने बड़ी थीं, उसके कुछ समय बाद गांधी जी एक बेटे के पिता बन गए। लेकिन उनका यह पुत्र जीवित नहीं रहा, बाद में कस्तूरबा और गांधी जी के चार बेटे हुए, जिनके नाम हरिलाल, मनिलाल, रामलाल और देवदास था। गांधी जी शादी के बाद पढ़ने के लिए विदेश चले गए, जहां से वह वकालत की पढ़ाई करके वापस आए।
4 महाद्वीपों और 12 देशों में हुए नागरिक अधिकार आंदोलन के पीछे महात्मा गांधी का हाथ था।
महात्मा गांधी आयरिश लहजे में अंग्रेजी बोलते थे।
6 जुलाई 1944 को रंगून रेडियो स्टेशन के जरिए पहली बार महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता कहकर संबोधित किया गया था। गांधी को राष्ट्रपिता की उपाधि देने वाले नेताजी सुभाषचंद्र बोस (Netaji Subhas Chandra Bose) थे।
ग्रेट ब्रिटेन ने गांधी जी की मृत्यु के 21 साल बाद उनके सम्मान में एक डाक टिकट जारी किया था।
गांधीजी को कभी नोबेल शांति पुरस्कार नहीं मिला, हालांकि उन्हें इस पुरस्कार के लिए 5 बार नॉमिनेट किया गया था।
1993 में महात्मा गांधी ने यूएसए के लिए रेडियो प्रसारण में डेब्यू किया था।
फोर्ड मोटर कंपनी के संस्थापक हेनरी फोर्ड महात्मा गांधी के बहुत बड़े प्रशंसक थे।
गांधी जी को महात्मा की उपाधि रवींद्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) ने दी थी।
30 जनवरी 1948 को नई दिल्ली स्थित बिड़ला भवन में नाथूराम गोडसे ने गांधीजी की हत्या कर दी थी।
भारत के बाहर 48 सड़कें और भारत में 53 सड़कें उन्हीं के महात्मा गांधी के नाम पर हैं।

गांधी और लेखक लियो टॉल्स्टॉय ने अपने समय में पत्रों के माध्यम से ढेर सारी बातचीत की थी।

1930 में “टाइम पर्सन ऑफ द ईयर” की उपाधि से सम्मानित होने वाले केवल गांधीजी पहले और एकमात्र भारतीय रहे हैं।

जब गांधीजी की मृत्यु हुई तो उनकी अंतिम यात्रा 8 किमी लंबी थी।

© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author