September 30, 2022

इस योगासन से मिलेंगे कमाल के फायदे, दूर हो जाएंगी कई बीमारियां

wp-header-logo-30.png

प्राणायाम (Pranayam) योग हमारे शरीर के लिए सबसे अच्छा व्यायाम है। यदि आप नियमित रूप से कपालभाति प्राणायाम (Kapalbhati) करते हैं, तो यह आपके स्वास्थ्य को कई तरह से लाभ पहुंचाता है। एक्सपर्ट्स की माने तो इस प्राणायाम के जरिए वजन कम करना और तनाव दूर करना आदि शामिल हैं। इस प्राणायाम से कई तरह की बीमारियों से निजात मिल सकता है। कपालभाती एक बहुत सरल प्राणायाम है। लेकिन इसे करने से पहले इसकी विधि और सावधानियों के बारे में अच्छी तरह पता होना चाहिए।
अब पूरी दुनिया योग के महत्व को स्वीकार कर रही है। भारत तो इस विद्या की जननी है। इसलिए हर किसी को योग की महत्ता पता होनी चाहिए और योग करना भी आना चाहिए। अगर आप कठिन योगासन नहीं करना चाहते हैं तो भी कुछ सरल योगासनों से भरपूर लाभ उठा सकते हैं। ऐसा ही एक सरल प्राणायाम है-कपालभाती।
है अत्यंत लाभकारी
योग विशेषज्ञों का मानना है कि हर दिन सुबह 20 मिनट कपालभाती करने से करीब 100 तरह की बीमारियां दूर हो जाती हैं। नियमित कपालभाती करने से हमारा ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है, दिमाग स्वस्थ रहता है। कुछ लोग मानते हैं कि कपालभाती एक षट्कर्म क्रिया है। षट्कर्म वो क्रियाएं होती हैं, जिनके करने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं, ये क्रियाएं सांस के साथ की जाती हैं। कपालभाती से भी शरीर के विषाक्त पदार्थ बाहर निकलते हैं। कपालभाती दिमाग को शांत रखने और ताकतवर बनाने के लिए रामबाण समझा जाता है। इससे हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।
ऐसे करें कपालभाती
सबसे पहले वज्रासन या पद्मासन में बैठ जाएं, दोनों हाथों से चित्त मुद्रा बनाएं और इन्हें अपने दोनों घुटनों पर रखें। अब गहरी सांस अंदर की ओर लें और फिर झटके से बाहर निकालें। पेट को अंदर की तरफ खींचें और कुछ मिनट तक ऐसा लगातार करें। यह प्रक्रिया एक बार में 25 से लेकर 100 तक यानी जितनी आराम से कर सकें, करें। शुरुआत में 25 या 30 से शुरु करें और फिर क्षमता के अनुसार इसे बढ़ाते जाएं। कपालभाती के बाद अगर कम से कम 100 तालियां बजाएं तो फायदा दोगुना मिलता है। इसके बाद हाथों और पैरों को स्ट्रेच करें। फिर कुछ देर तक सुखासन में बैठें और धीरे-धीरे गहरी लंबी सांस लें और छोड़ें।
अन्य लाभ
कपालभाती नियमित रूप से करने पर लिवर और किडनी से जुड़ी समस्याएं ठीक होती हैं। शरीर में ऊर्जा का स्तर बनाए रखने के लिए यह बहुत फायदेमंद है। इसे नियमित रूप से करने से शरीर का ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है, मेटाबॉलिज्म में सुधार होता है, गैस और एसिडिटी की समस्या नहीं होती। फेफड़े मजबूत होते हैं। कपालभाती करने से याद्दाश्त भी बढ़ती है। इससे हमारी नींद की गुणवत्ता बढ़ती है। वजन काबू में रहता है, शरीर में फ्लेग्जिबिलिटी बनी रहती है।
इनका रखें ध्यान
कपालभाती से अधिकाधिक फायदे पाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए। जैसे, इसे करते समय अपनी सांस लेने की स्पीड को एक जैसा रखें। हमारा सारा ध्यान पेट के मूवमेंट पर होना चाहिए। कंधे नहीं हिलने चाहिए। सांस अंदर लेते समय पेट बाहर की ओर और सांस छोड़ते वक्त पेट अंदर की ओर होना चाहिए। यह भी ध्यान रखें कि अगर कोई ऐसी बीमारी या समस्या पहले से है, जिसमें सांस का लेना परेशानी पैदा कर सकता है मसलन- हर्निया, अल्सर या सांस की बीमारी या हाइपरटेंशन, तो कपालभाती करने से पहले एक बार डॉक्टर से कंसल्ट कर लें।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author