December 5, 2022

कोटा की सड़कों पर कांग्रेस सरकार के खिलाफ दिखा जनाक्रोश, भाजपा ने निकाला पैदल मार्च

wp-header-logo-3.png

news website
संदेश न्यूज। कोटा। हाथों में सरकार विरोधी तख्तियां और कांग्रेस विरोधी नारे लगाते हुए सैकड़ो की संख्या में लोग सोमवार को कोटा की सड़कों पर नजर आए। भाजपा की ओर से टीलेश्वर भवन के पास से जनआक्रोश वाहन रैली व पैदल मार्च सीएडी सर्किल तक निकाला गया। जिसमें किसानों एवं युवाओं ने उत्साह से हिस्सा लिया। जनआक्रोश रैली के संयोजक लोकेन्द्र राजावत ने बताया कि 4 साल के कुशासन के विरूद्ध जनता का आक्रोश फूट पड़ा है। सोमवार को भाजपा की अगुवाई में जनता ने पैदल मार्च के जरिए अपना विरोध प्रकट किया।
टीलेश्वर पर बड़ी संख्या में युवा एवं किसान एकत्रित हुए और कांग्रेस विरोधी नारे लगाते हुए सीएडी की ओर रवाना हो गए । डिविजनल कमिश्नर कार्यालय पहुंचकर रैली ने सभा का रूप ले लिया। जहां जिला अध्यक्ष देहात भाजपा मुकुट नागर और पूर्व उपाध्यक्ष युवा मोर्चा राजस्थान लोकेंद्र सिंह राजावत ने जनता को संबोधित किया। इसके उपरांत संभागीय आयुक्त को मुख्यमंत्री ने नाम ज्ञापन सौंप कर युवा व किसानों की सुध लेने की अपील की गई। रैली मे भाजपा की ओर से नेमीचंद नागर मंडल अध्यक्ष ताथेड़,जोधराज गुर्जर मंडल महामंत्री ताथेड़,रविन्द्र हाड़ा मंडल अध्यक्ष उद्योग नगर,गौरीशंकर नागर सहकारी उपाध्यक्ष, प्रवीण गालव पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष, सुरेश सुवालका पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष,श्याम मालव, अभय सिंह, जगदीश सैनी मंडल उपाध्यक्ष, मुकेश मीना,गिरिराज मीणा, गोपाल सिंह , रेखा खेरवाल, सावित्री मेघवाल, कलावती निमसे, कुशराज नागर,राकेश गुर्जर, भरत मेवाड़ा, देवकी राठौर, दुर्गेश कुशवाह,लोकेश नागर,नागेंद्र सिंह , शंभू सैनी,अनेक भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
भाजपा ने पूछा- केईडीएल से कब मिलेगा छुटकारा
रैली में वक्ताओं ने आरोप लगाया कि कोटा की जनता को अपने अपनी चुनावी वादे में केईडीएल से छुटकारे की बात कहकर नगरीय विकास मंत्री धारीवाल ने लाखों वोट हासिल कर लिए लेकिन 4 साल की सत्ता के बावजूद जनता की सुध नहीं ली। विकास ने नाम पर फव्वारे वाले चौराहे और डामर की सड़कों पर फिर डामर कर दिया, जबकि अधिकांश सड़कों पर अभी भी गड्ढे हैं। जनता का हाल बेहाल है। राजावत ने कहा कि चुनाव के समय घोषणापत्र में वादा किया गया था कि बिजली की दरें नहीं बढ़ाई जाएंगी एवं बढ़ी दरों को कम किया जाएगा लेकिन अपना खजाना भरने एवं जनता का खजाना खाली करने के लिए प्रदेश सरकार लगातार विद्युत दरों में बढ़ोतरी करती रही जहां एक और राजस्थान में सर्वाधिक महंगी बिजली दी जा रही है। साथ ही फ्यूल सरचार्ज जैसे कई तरह के कर जोड़ कर उन में बेतहाशा बढ़ोतरी की जा रही है। आम उपभोक्ता त्राहि-त्राहि कर रहा है लोगों के पास बिजली के बिल जमा कराने के पैसे भी नहीं है।
Your email address will not be published. Required fields are marked *







This is the News Website by Chambal Sandesh
Rajasthan, Kota
THIS IS CHAMBAL SANDESH YOUR OWN NEWS WEBSITE

  • एजुकेशन
  • कर्नाटक
  • कोटा
  • गुजरात
  • Chambal Sandesh

    source

    About Post Author