September 25, 2022

Health Tips: अगर हैं पेट की समस्याओं से परेशान तो ये योगासन करेंगे आपकी मदद

wp-header-logo.png

Health Tips: हमारे शरीर (Human Body) की आधी से ज्यादा समस्याएं पेट (Stomach Problems) से जुड़ी हुईं होती है। आयुर्वेद के डॉक्टर (Ayurvedic Doctors) पेट को ज्यादातर बीमारियों की जड़ मानते हैं। एक स्वस्थ शरीर (Healthy Body) के लिए पेट का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। खराब लाइफस्टाइल और कुछ भी उल्टा-सीधा खा लेनें के कारण पेट की समस्याएं जैसे कब्ज, एसिडिटी, गैस और अपच आदि हो जाते हैं। इन समस्याओं से दूर रहने में योगासन काफी मदद करते हैं। अपनी इस स्टोरी में हम आपको ऐसे योगासनों के बारे में बताएंगे जो आपकी पेट की हेल्थ का ध्यान रखने में कारगर हैं…

पवनमुक्तासन (Pawnmuktasana)
पवनमुक्तासन, जैसा कि नाम से पता चलता है, दो शब्दों “पवन” जिसका अर्थ है हवा या गैस, और “मुक्त”, जिसका अर्थ है राहत से मिलकर बना है। यह आसन हमारे पेट में गैस को बाहर निकालने में मदद करता है। गैस अक्सर भोजन के ठीक तरह से न पच पाने के कारण होती है। अपच के कारण बहुत सारी समस्याएं जैसे पेट की परेशानी, माइग्रेन, जोड़ों का दर्द आदि हो जाती हैं।
बालासन (Balasana)
इस योग को गर्भासन और शशांकासन के नाम से भी जाना जाता है। बालासन का अर्थ है बच्चे की मुद्रा, जहां “बाल” का अर्थ है बच्चा, और “आसन” का अर्थ है मुद्रा। बालासन अक्सर अंत योग के रूप में किया जाता है; यह योग उचित श्वास तकनीक पर केंद्रित है। श्वास लंबी, पतली, धीमी और स्थिर होनी चाहिए। मूल अवधारणा यह है कि आपको फ्लेक्स करते समय सांस छोड़ना और स्ट्रेचिंग करते समय सांस लेना है। ये आसन आपके पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने का काम करता है।
पश्चिमोतासन (Paschimottanasana)
पश्चिमोत्तानासन, जिसमें आपको पैर फैलाकर बैठे हुए आगे की ओर झुकना होता है, बैठ कर किए जाने वाले बुनियादी आसनों में से एक है। और बुनियादी योग मुद्राओं में से एक है। जैसा कि नाम से संकेत मिलता है, यह आसन मुख्य रूप से कूल्हे के जोड़ को फ्लेक्स करके उसकी गतिशीलता पर ध्यान केंद्रित करता है। जैसे-जैसे शरीर को आगे की ओर स्ट्रेच किया जाता है, पाचन अंगों पर दबाव बढ़ जाता है। यह पाचन में सुधार करता है और इसलिए गैस्ट्रिक से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं में लाभ देता है।
हलासन (Halasana)
हलासन दो संस्कृत शब्दों से बना है, अर्थात, “हला”, जिसका अर्थ है हल, और “आसन”, जिसका अर्थ है मुद्रा। इसलिए, इसे हल मुद्रा भी कहा जाता है। जिस तरह हल से मिट्टी की गहरी परतें खोदी जाती हैं, उसी तरह यह योग भी आपको अपने मन की गहराई में जाने और शांति प्राप्त करने देता है। यह चुनौतीपूर्ण योग है, और आपको इसमें महारत हासिल करने में कुछ समय लग सकता है। इस आसन में महारत हासिल करने के लिए, आपको सबसे पहले अपनी सांस लेने की तकनीक में महारत हासिल करनी होगी और अच्छा लचीलापन होना चाहिए। यह हमारे आंतरिक अंगों जैसे थायराइड, पिट्यूटरी, अग्न्याशय, और कई अन्य को भी लाभ पहुंचाता है और पाचन में सुधार करते हुए कब्ज को ठीक करता है।
वज्रासन (Vajrasana)
वज्रासन मुद्रा एक साधारण बैठने वाली योग मुद्रा है। इसका नाम संस्कृत शब्द वज्र से आया है, जिसका अर्थ है वज्र या हीरा। यह पाचन में सहायता करने के साथ कब्ज से राहत देता है और इसके अलावा ये पैल्विक मांसपेशियों को मजबूत बनाने का काम भी करता है।
© Copyrights 2021. All rights reserved.
Powered By Hocalwire

source

About Post Author